अगर आप भी कॉफी पीने के शौकीन हैं तो रहें सावधान

कॉफी लगभग सभी घरों में मौजूद होती है। कॉफी जितनी पीने में मजेदार होती है, क्या सेहत के लिए भी उतना ही फायदेमंद होती है?  शायद आप कॉफी से जुड़े कुछ खतरनाक दुष्प्रभाव के बारे में नहीं जानते होंगे कि कॉफी पीना आपके स्वास्थ्य के लिए कितना जानलेवा है।

कॉफी दक्षिण भारत में केफिया अरेबिका नामक 6 से 20 फुट ऊंचाई वाले सदाबहार छोटे वृक्ष या झाड़ी से इसके बीजों को प्राप्त कर भून कर पीसा  जाता है। यह भूरे रंग का पाउडर ही कॉफी कहलाता है। कॉफी की कुछ जंगली जातियाँ हिमालय तथा दक्षिण में होती है। कॉफी की प्रचलित जाति अरबों द्वारा एबीसिनिया से लाई गई है। कॉफी के फूल सफेद तथा फल के अंदर सेम के बीज के आकार के दो बीज होते हैं ।कॉफी के फल को धूप में या कृत्रिम ढंग से सुखाकर हरे रंग वाला बीच निकाला जाता है।

कॉफी पीने के नुकसान

हरे कच्चे बीजों में सुगंध कम होती है। परंतु भूनने से वह बादामी तथा सुगंधित हो जाता है। इसमें कार्बन डाइऑक्साइड गैस बनकर बढ़ जाती है तथा कार्बोज लगभग खत्म हो जाते हैं। इस प्रकार कार्बन डाइऑक्साइड युक्त कॉफी उच्चतम गुणवत्ता कि मानी जाती है। 50 कप कॉफी में जितना जहर होता है वह एक इंसान के मरने के लिए काफी होता है। अगर कोई इंसान 1 दिन में 50 कप कॉफी से ज़्यादा पी ले, तो वह अपनी जान से हाथ धो बैठेंगे इसी से आप समझ गए होंगे कि यह हमारे शरीर के लिए कितना नुकसानदायक माना गया है। इसलिए इस बात को ध्यान में रखते हुए जितना हो सके उतनी कम कॉफी पीनी चाहिए या इसका त्याग कर देना ही उचित है।

कॉफी पीने के नुकसान :


बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक सभी कॉफी पीने के शौकीन होते हैं, कॉफी किसे नहीं पसंद, बच्चा-बच्चा इसका नाम सुनते ही पीने की जिद्द करता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आप खुद के साथ-साथ अपने बच्चों को भी कॉफी के नाम पर जहर पिला रहे हैं। वह भी ऐसा विष जिसका असर आप पर व आपके घरवालों पर धीरे-धीरे हो रहा है। एक कप कॉफी में 100 से 120 मिलीग्राम कैफीन पाया जाता है। कॉफी में किसी भी प्रकार का पौष्टिक तत्व नहीं पाया जाता है।

कॉफी में पाया जाने वाला कैफीन एक प्रकार का जहर होता है। एक शोध के अनुसार यह देखा गया है कि कॉफी में जो कैफीन पाया जाता है। उस कैफीन की एक बूंद विष किसी जीव के शरीर में प्रविष्ट कराया जाए तो उस जीव की कुछ ही समय में मृत्यु हो जाएगी। इसी प्रकार आप देख सकते हैं कि यह कितना घातक विष है, यदि थोड़ी मात्रा में कैफीन मस्तिष्क में पहुँचाया जाए तो शरीर में ऐंठन-सी होने लगती है। कैफीन को एक नशे के रूप में भी माना गया है।

कॉफी पीने से लोगों में इसकी आदत-सी पड़ने लगती है और यह बहुत ही घातक विष है। कॉफी पीने से शरीर में कई प्रकार के नुकसान होते हैं। कॉफी से होने वाले नुकसान जिससे कि हर कोई अपरिचित है, तो आइये हम आपको बताएंगें कि कॉफी शरीर के लिए कितना नुकसानदायक माना गया है। और इसका नियमित रूप से सेवन करने से आपके शरीर में कौन-कौन-सी घातक बीमारियाँ हो सकती हैं, तो आइये जानते हैं-

गर्भावस्था में जहर के समान-


एक शोध के अनुसार गर्भवती माताओं के लिए एक विशेष निर्देश जारी किया गया है कि गर्भावस्था में दो कप कॉफी पीने से शिशु का वजन सामान्य से भी कम हो सकता है। इसीलिए गर्भावस्था में कॉफी पीने से परे रखा जाता है। गर्भावस्था में कॉफी पीने से गर्भ में पल रहे बच्चे को नुकसान पहुँचता है। और इसके अतिरिक्त यह भी माना गया है कि प्रेगनेंसी के दौरान यदि कोई महिला बार-बार कॉफी का सेवन करती है तो उसे गर्भपात होने का खतरा बढ़ जाता है। अथवा समय से पहले डिलीवरी का खतरा बना रहता है। इसी कारण से डॉक्टर एक प्रेग्नेंट महिला को कॉफी न पीने की सलाह देते हैं जो अत्यंत आवश्यक भी है।

कॉफी और कैंसर-


कॉफी में तार नामक एक विशेष प्रकार का विष होता है या अत्यंत घातक विष होता है जो कैंसर जैसी भयंकर बीमारी को भी पैदा कर सकता है। कुछ शोधकर्ताओं ने अपने शोध में इस टार नामक विष के बारे में बताया है। जिसमें यह बताया गया है कि कॉफी में टार नामक विश भी पाया जाता है। और यह टार के गुण ठीक उसी प्रकार के हैं जिस प्रकार के तंबाकू से निकलने वाले टार या कोलटार के हैं।
कुछ वैज्ञानिकों ने टार विष को कुछ जानवरों में प्रविष्ट करा कर देखा तो उन्होंने यह पाया कि टार से 73% जानवरों में ट्यूमर पैदा होकर वहीं ट्यूमर बाद में कैंसर में परिवर्तित हो जाता हैं।

मोटापे का खतरा-


दोस्तों नियमित रूप से कॉफी का सेवन करने से मोटापे की समस्या भी बढ़ती जाती है दोस्तों अगर आप यह नहीं चाहते कि आपके शरीर में दिन-प्रतिदिन फालतू की चर्बी बढ़ती रहे। तो जितनी जल्दी हो सके आपको अभी से कॉफी पीना बन्द करना होगा, नहीं तो इसके दुष्परिणाम आपको जल्दी ही नजर आने लगेंगे।

अल्सर के रोगियों के लिए हानिकारक-


अल्सर के रोगियों को कॉफी नहीं पीनी चाहिए कॉफी पीने पर या पेट के रसों के साथ मिलकर हाइड्रोक्लोरिक अम्ल अधिक बनाती है। इससे अल्सर बन जाता है। कॉफी पीने से वीर्य भी पतला हो जाता है, और साथ ही साथ भूख भी कम लगती है, और हमारा पाचन तंत्र भी कमजोर हो जाता है। इसके अलावा बवासीर में भी कॉफी से परहेज करना चाहिए और साथ ही साथ ज़्यादा कॉफी पीने से हृदय रोग पाचन तंत्र में गड़बड़ी होने लगती है और इसके अलावा मूत्र नलिका में कैंसर होने की संभावना भी बनी रहती है।

अब आप जान ही गए होंगे कि कॉफी हमारे शरीर के लिए कितनी नुकसानदायक मानी गई है, इसे जितना कम हो सके उतनी कम मात्रा में पिएँ या फिर इसके सेवन का त्याग कर दें। इसके साथ ही दोस्तों आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी? आप हमें कमेंट करके ज़रूर बताएँ। अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप अपने दोस्तों तक इस जानकारी को ज़रूर शेयर करें, जिससे कि आप तथा आपके अपने हमेशा सुरक्षित रहें।

Post a Comment

1 Comments